सिलेंडर की होम डिलीवरी को लेकर जिला पार्षद के माध्यम से उठाई मांग

ऊना। विधानसभा क्षेत्र के तहत रायपुर सहोड़ा में गैस एजेंसियों द्वारा सिलेंडरों की होम डिलीवरी न करने पर ग्रामीण खासे परेशान है। घरेलू गैस सिलेंडर की डिलीवरी न होने से सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं को पेश आती है, जिन्हें सिलेंडर सिर पर ढोने पड़ते है। ऐसे में ग्रामीणों ने इस संदर्भ में जिला परिषद सदस्य पंकज सहोड़ को ज्ञापन सौंप गैस एजेंसियों के गैस सिलेंडर की होम डिलीवरी की सुविधा प्राथमिकता के आधारपर उपलब्ध करवाने की मांग उठाई है।
ग्रामीणों में सुनीता, निरंजन, राकेश चंद्र, यशपाल सिंह, हरिओम, वीना रानी, मीना, कमलदेव, प्रदीप, सुनीता, सीमा, सतीश कुमार, ओंकारनाथ, अरूण कुमार, शुभलता, शाम लाल, शारदा देवी व राज रानी ने कहा कि हमारे गांव के दो गैस एजेंसियों की ओर से गैस सिलेंडरों की होम डिलीवरी की सुविधा उपलब्ध न होने के कारण काफी परेशानी पेश आ रही है। उन्होंने बताया कि गांव में सभी गालियां पक्की है, अधिकतर गलियों में तो बड़े वाहन भी आते-जाते है, जबकि सिलेंडर वाले वाहन मोहल्लों की गलियों में न आकर गांव में 2-3 विशेष चिंहित स्थानों पर ही वितरण के लिए खड़े होते हैं, जो कि घरों से बहुत दूर है। उन्होंने बताया कि वीरवार के दिन दोपहर को 11-12 बजे के बीच आते हैं। उस समय अधिकर घरों में सिलेंडर की ढुलाई के लिए पुरूष नहीं होते हैं। सभी व्यक्ति काम के सिलसिलों में घरों से बाहर रहते हैं। उन्होंने कहा कि कई बार घर का व्यक्ति किसी गंभीर व लंबी बीमारी से ग्रस्त होता है। कोई बुजुर्ग होता है, जो सिलेंडर उठाने में असमर्थ होते हैं। ऐसी परिस्थितियों में ज्यादातर महिलाओं को मजबूर होकर सिलेंडर स्वयं अपने सिरों पर ढोने पड़ते हैं। ऐसे में ग्रामीणों ने जिला परिषद सदस्य पंकज सहोड़ से मांग उठाई है कि इन दोनों गैस एजेंसियों के गैस सिलेंडरों की होम डिलीवरी की सुविधा प्राथमिकता के आधार पर शीघ्र उपलब्ध कराने की अनुकंपा करें, ताकि सभी को राहत की सांस मिल सके। उधर, जिला परिषद सदस्य पंकज सहोड़ ने कहा कि जिला परिषद के माध्यम से संबंधित विभाग को ग्रामीणों की समस्याओं को बताया जाएगा और जल्द ही जल्द हल भी किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *